सुनने हेतु पढ़ाने की रणनीतियां

What this unit is about

पहले भारत में अंग्रेजी भाषा के अध्यापन के लिए विद्यालय पाठ्यक्रम पढ़ने और लिखने को प्रधानता देता था। जबकि, National Curriculum Framework (2005, p. 40) जैसे नीति दस्तावेज अब सुनना और बोलना पढ़ाने के महत्व को भी मान्यता देते हैं:

Speech and listening, reading and writing, are all generalised skills, and children’s mastery over them becomes the key factor affecting success at school. In many situations, all of these skills need to be used together.

सुनना और बोलना अब पढ़ाया जाता है क्योंकि वे बातचीत करने के लिए अंग्रेजी का उपयोग करने में सक्षम होने के बहुत महत्वपूर्ण अंग हैं। सुनने के कौशल बोलने के कौशलों के विकास के लिए भी महत्वपूर्ण होते हैं। अन्य वक्ताओं को सुनने से छात्रों को अपने अंग्रेजी के उच्चारण और प्रवाह को विकसित करने में सहायता मिलती है।

सुनने के सफल कौशल समय के साथ और ढेर सारे अभ्यास के बाद अर्जित होते हैं। छात्रों को सुनने के कौशलों को विकसित करने में सक्षम होने के लिए बोली गई अंग्रेजी के संपर्क में आना जरूरी होता है। जबकि, भारत के कुछ भागों के छात्रों को कक्षा से बाहर अंग्रेजी सुनने के अधिक अवसर नहीं मिलते हैं।

यह इकाई इस बारे में विचार प्रस्तुत करती है कि आप अपनी अंग्रेजी कक्षाओं में सभी छात्रों को शामिल करने वाली सुनने की सार्थक गतिविधियों को विकसित करने के लिए संसाधनों का सृजनात्मक ढंग से उपयोग कैसे कर सकते हैं।

Downloads

You can download these files for use offline or on a mobile device.

The materials below are provided for offline use for your convenience and are not tracked. If you wish to save your progress, please go through the online version.

आप इस इकाई में क्या सीख सकते हैं